कोमल पंद्रह साल की लड़की है. वह दुकानों में हेल्पर का काम करती है. कोमल और उसके दो भाई-बहनों को अकेले मां ने ही पाला है. गरीबी ने जल्द ही उसे यह अहसास करा दिया था कि उसकी मां अकेले ही घर की जरूरतों को पूरा नहीं कर सकती है. इसलिए उसने अपने परिवार के लिए कुछ आर्थिक सहायता अर्जित करने के लिए एक कपड़े की दुकान में सहायक के रूप में काम करना शुरू किया. आम तौर पर असंगठित क्षेत्रों में लोगों को जल्द नौकरी छूटने का डर होता है, जिसका फायदा दुकान मालिक कमजोर श्रमिकों पर अपनी शक्ति का उपयोग करने के लिए उठाते हैं. महिलाएं और लड़कियां इससे सबसे ज्यादा प्रभावित होती हैं. अधिकांश युवा लड़कियां बाधाओं को देखते हुए केवल अपने परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए काम करती हैं, इसलिए वे अपनी नौकरी आसानी से नहीं छोड़ सकतीं. वह इसी परिस्थिति में स्वयं को ढ़ालने का प्रयास करती हैं. उन्हें अपनी नौकरी खोने की चिंता होती है क्योंकि वह यह भी जानती हैं कि पूरा बाजार ऐसा ही है और हर जगह शोषण आम है. हालांकि जब शोषण अत्यधिक हो जाता है, तो कई लड़कियों को काम छोड़कर घर पर रहने के लिए मजबूर होना पड़ता है. कोमल के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ और आखिरकार उसने भी नौकरी छोड़ दी.

मैनपाट में जमकर गिरा पाला, तापमान पांच डिग्री के करीब

कहीं भी और कभी भी हिन्दुस्तान अखबार ऑनलाइन पढ़ने के लिए आपको जरूर सब्सक्रिप्शन लेना चाहिए। सब्सक्राइबर के रूप में आपको छह प्रदेशों- दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, उत्तराखंड- के करीब 150 शहरों के हिन्दुस्तान के ई-पेपर का एक्सेस मिलेगा।

एक उपभोक्ता के तौर पर आपको निम्न फायदे मिलेंगे:

  • हिन्दुस्तान ईपेपर की सभी खबरें किसी भी डिवाइस पर पढ़ सकते हैं।
  • खास आपके लिए चयनित आपकी पसंद की खबरें।
  • हिन्दुस्तान के सभी संस्करणों के ई-पेपर का एक्सेस।
  • आर्काइव्स का एक्सेस मिलने से आप पिछले दिनों के अखबार भी पढ़ सकते हैं।

हिन्दुस्तान ईपेपर की सदस्यता के तहत क्या-क्या सुविधाएं मिलती हैं?

  • हिन्दुस्तान ईपेपर वेबसाइट, मोबाइल साइट और ऐप की पूरी सुविधा।
  • "My Account" में जाकर यूजर अपनी जरूरत के हिसाब से बदलाव कर सकते हैं।
  • बाद में पढ़ने के लिए बुकमार्क्स में स्टोरी सुरक्षित करने की सुविधा।
  • हिन्दुस्तान के ई-पेपर्स पढ़ने की सुविधा।
  • पसंदीदा विषयों के न्यूज अलर्ट्स सीधे आपके इनबॉक्स में।
  • सूचना से भरपूर पॉडकास्ट और मशहूर लोगों के साथ वीडियो इंटरव्यू।

इसके लिए आपको हिन्दुस्तान ईपेपर की तरफ से एक कन्फर्मेशन मेल मिलेगी।

क्या मैं इसकी सदस्यता को किसी और को हस्तांतरित कर सकता हूं?

नहीं, सदस्यता यहां उल्लेखित नियम और शर्तों के तहत हस्तांतरणीय नहीं है।

नहीं, आप पहली खरीद पर केवल तभी रिफंड पाने के हक़दार होंगे, जब आप सब्सक्रिप्शन लेने के 15 दिनों के भीतर इसे रद्द करते हैं।

क्या मैं किसी भी परिस्थिति में पैसे वापसी का हक़दार हूं?

हिन्दुस्तान ईपेपर का सब्सक्रिप्शन पहली बार लेने के 15 दिनों के भीतर अगर आप कैंसल करवाते हैं तभी आपको पैसे वापस मिलेंगे। रिन्यूअल कराने पर यह लागू नहीं होगा।

आप ई-मेल के जरिए हमसे संपर्क कर सकते हैं। हमारा ईमेल आईडी है [email protected]

फायर फाइट के मानक को फॉलो नहीं कर रहा मेडिकल कॉलेज अस्पताल

0 लगभग छह वर्ष से अग्निशमन विभाग से नहीं मिली एनओसी 0 आग लगने पर बचाव का डेमो किया अग्निशमन के कर्मचारियों ने फोटो-14,15 -सिलेंडर में लगी आग को बुझाते हुए, प्रदर्शन देखते अधिकारी व कर्मी अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि मेडिकल कॉलेज अस्पताल में फायर फाइटर सिस्टम को नियमानुसार फॉलो नहीं करने से लगभग छह वर्ष से एनओसी नहीं मिल पाई है। अ

फायर फाइट के मानक को फॉलो नहीं कर रहा मेडिकल कॉलेज अस्पताल

0 लगभग छह वर्ष से अग्निशमन विभाग से नहीं मिली एनओसी

0 आग लगने पर बचाव का डेमो किया अग्निशमन के कर्मचारियों ने

फोटो-14,15 -सिलेंडर में लगी आग को बुझाते हुए, प्रदर्शन देखते अधिकारी व कर्मी

अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि

Delhi : कांत प्रोजेक्ट हल करेगा अंग्रेजी और गणित की मुश्किलें, शिक्षा निदेशालय की पहल

दिल्ली सरकार ने सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के सीखने के स्तर को बढ़ाने की दिशा में कदम बढ़ाया है। शिक्षा निदेशालय दूसरी से पांचवीं कक्षा तक के बच्चों के लिए ‘कांत लर्निंग प्रोसेस’ प्रोजेक्ट शुरू करने जा रहा है।

तुगलकाबाद स्थित सर्वोदय कन्या विद्यालय को लर्निंग सिस्टम को स्थापित करने के लिए चयनित किया गया है। जबकि 62 स्कूलों से इस प्रोजेक्ट की शुरूआत होगी। इस प्रोजेक्ट में वीडियो गेम, टीवी, क्विज के माध्यम से बच्चों को अंग्रेजी, साइंस, व गणित का ज्ञान दिया शिक्षा के लिए डेमो का उपयोग करें जाएगा।

शिक्षा निदेशालय के अनुसार, यह प्रक्रिया किसी भी स्तर शिक्षा के लिए डेमो का उपयोग करें पर शिक्षा प्रदान करने की समस्या का एक इंजीनियरिंग समाधान है। इसके तहत अंग्रेजी, साइंस व गणित विषयों पर फोकस किया जाएगा। इसमें बच्चों को तनाव मुक्त शिक्षण वातावरण मिलेगा।

विशेष : बहुआयामी गरीबी और शोषण में जी रहे बच्चे

Children-under-poverty

नांदेड़, महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र के ऐतिहासिक स्थानों में से एक है. यह क्षेत्र गोदावरी नदी के उत्तरी तट पर स्थित है और अपने सिख गुरुद्वारों के लिए प्रसिद्ध है. यह मराठवाड़ा मंडल के तहत महाराष्ट्र के 36 जिलों में से एक है और इसे पिछड़े जिलों की श्रेणी में रखा जाता है. भौगोलिक रूप से, यह क्षेत्र ज्यादातर सूखाग्रस्त है. नांदेड़ में कृषि मुख्य व्यवसाय है और यहां के आम लोग ज्यादातर मज़दूरी करके अपना जीवनयापन करते हैं. कम वर्षा के कारण अधिकांश मजदूर काम की तलाश में बड़े शहरों की ओर पलायन कर जाते हैं और कई दैनिक वेतन भोगी के रूप में काम करते हैं. यहां की 86 प्रतिशत महिलाएं गैर-कृषि व्यवसायों से जुड़ी हैं. ईंट भट्ठों में काम करने के अलावा लोग अपने परिवारों के साथ गन्ने के खेतों में भी मज़दूरी करते हैं. कुछ लोग मुंबई और शिक्षा के लिए डेमो का उपयोग करें पुणे की कंपनियों में काम करने जाते हैं. यहां के लोग अक्सर काम के सिलसिले में दूसरे शहरों में पलायन करते रहते हैं. कुछ महिलाएं गृहिणी के रूप में काम करती हैं, जबकि कुछ पुरुष कपड़ों की दुकानों में सहायक और विक्रेता के रूप में काम करते हैं.

रेटिंग: 4.67
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 301