Top Loser Today May 12, 2022: बाजार में पैसा लगाने से पहले जानें आज किन स्टॉक्स में है अच्छा एक्शन?

Top Loser Today May 12, 2022: बाजार में पैसा लगाने से पहले जानें आज किन स्टॉक्स में है अच्छा एक्शन?

By: ABP Live | Updated at : 13 May 2022 11:02 AM (IST)

This information is provided to you on an "as is" basis, without any warranty. Although all efforts are made to ensure that information and content provided as part of this abplive.com and ABP Live app is correct at the time of inclusion on the Website and/or App, however there is no guarantee to the accuracy of the Information. ABP Network Private Limited (‘ABP’) makes no representations or warranties as to the truthfulness, fairness, completeness or accuracy of the information. There is no commitment to update or correct any information that appears on the internet or on this abplive.com and ABP Live app. Please consult your broker or financial representative to verify pricing before executing any trade. Information ट्रेड पेआउट प्रतिशत is supplied upon the condition that the persons receiving the same will make their own determination as to its suitability for their purposes prior to use or in connection with the making of any decision. Any use of the information on this abplive.com and ABP Live app is at your own risk. Neither ABP nor its officers, employees or agents shall be liable for any loss, damage or expense arising out of any access to, use of, or reliance upon, this abplive.com and ABP Live app or the information, or any website linked to this abplive.com and ABP Live app.

एबीपी लाइव बिजनेस पर जानिए शेयर मार्केट के ताजा हाल. यहां जानिए शेयर मार्केट में कौनसे शेयर में आज सबसे ज्यादा गिरावट देखने को मिली है. सबसे पहले यहां जानिए कौनसे शेयर आज मार्केट में टॉप लूजर्स की लिस्ट में शुमार हुए. सेंसेक्स, निफ्टी में आज कई शेयर दबाव में रहे. एक क्लिक में जानिए कि आज स्टॉक मार्केट में कौनसे शेयर्स टॉप लूजर्स रहे. यहां शेयर बाजार में आज के टॉप लूजर्स शेयर की लिस्ट देखी जा सकती है. टॉप लूजर्स से मतलब उन शेयरों से है जिन्होंने अपने आखिरी क्लोजिंग ट्रेड पेआउट प्रतिशत प्राइज की तुलना में प्रतिशत के मामले में सबसे ज्यादा गिरावट देखने को मिली है. यहां जानिए आज के टॉप लूजर्स शेयर के भाव और प्रतिशत में कितनी हुई गिरावट.

टॉप लूजर्स, May 12, 2022 List

SN.Scheme NameScheme CategoryCurrent NAV
1Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TI (1837 days) - Direct Plan - Growth OptionINCOME10.1462
2Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TI (1837 days) - Direct Plan - Payout of IDCW optionINCOME10.1465
3Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TI (1837 days) - Regular Plan - Growth OptionINCOME10.1374
4Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TI (1837 days) - Regular Plan - Payout of IDCW optionINCOME10.1374
5Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TJ (1838 days) - Direct ट्रेड पेआउट प्रतिशत Plan - Growth OptionINCOME10.1331
6Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TJ (1838 days) - Direct Plan - Payout of IDCW OptionINCOME10.1333
7Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TJ (1838 days) - Regular Plan - Growth OptionINCOME10.1247
8Aditya Birla Sun Life Fixed Term Plan - Series TJ (1838 days) - Regular Plan - Payout of IDCW OptionINCOME10.1247
9Aditya Birla Sun ट्रेड पेआउट प्रतिशत ट्रेड पेआउट प्रतिशत Life Nifty SDL Apr 2027 Index Fund-Direct GrowthMONEY MARKET9.835
10Aditya Birla Sun Life Nifty SDL Apr 2027 Index Fund-Direct IDCW PayoutMONEY MARKET9.8349

टॉप लूजर्स में वे शेयर शामिल होते हैं जिन्होंने अपने पिछले बंद से प्रतिशत अंतर के मामले में सबसे ज्यादा नुकसान उठाया है. इसमें स्टॉक की घटी हुई कीमत, वर्तमान ट्रेडिंग सत्र के लिए स्टॉक का अंतिम कारोबार मूल्य, मौजूदा स्टॉक के मूल्य में प्रतिशत का अंतर शामिल है. यहां जानेंगे शेयर का हाई प्राइज, लॉ प्राइज, प्रतिशत में अंतर, वर्तमान क्लोजिंग प्राइज, आखिरी क्लोजिंग प्राइज.

News Reels

क्या है टॉप लूजर्स?
किसी सिक्योरिटी में एक ही कारोबारी दिन के दौरान कीमत में गिरावट होती है तो उसे लूजर्स कहा जाता है. शेयर बाजार में जिन शेयरों में गिरावट देखने को मिलती है, वो लूजर्स की श्रेणी में आते हैं. साथ ही जिन शेयर में सबसे ज्यादा गिरावट देखी जाती है वो टॉप लूजर्स की लिस्ट में शामिल होते हैं. जब शेयर बाजार के सूचकांक नीचे की ओर जाते हैं तो संभावना है कि बाजार में लूजर्स की संख्या ज्यादा होगी.

Published at : 13 May 2022 11:00 AM (IST) Tags: Mutual fund Top Losers Top Losers Today Top Losers List हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: News in Hindi

फिशिंग स्कैम का ख़तरा – यह क्या है और इससे हम कैसे बचें?

मैंने हाल ही में शेयर बाजार के घोटालों पर यह पोस्ट लिखा था, जिसके बारे में सभी को पता होना चाहिए। यहाँ हमने बताया है कि कैसे धोखेबाज़ सलाहकार आपको इल्लिक्विड ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स (वह ऑप्शनस जिनमे कम ट्रेडिंग होती है) में पोज़िशन लेने के लिए कहते हैं और जानबूझकर नुकसान पैदा करते हैं, और अपने अकाउंट में चोरी से यह मुनाफा ले लेते हैं। इन में से कुछ सलाहकार, निवेशकों को ख़राब कंपनी के शेयर दिलाकर उस शेयर की कीमत को ऊंचा कर देते हैं और खुद इन् शेयर को बेच देते है। ऐसे निवेशक इन् शेयर में फस जाते हैं और बाहर नहीं निकल सकते (इसे “पंप और डंप स्कीम” कहा जाता है)।

Kite (काइट) पर इन घोटालों को रोकने के लिए हमने नीचे लिखे उपाय लागू किये है –

इल्लिक्विड ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स में ट्रेड पर रोक लगाना,

एक्सचेंज को किसी भी घोटाले वाले ट्रेड की रिपोर्ट करना, और

खरीदने की ऑर्डर विंडो में Nudge (नज) का उपयोग करने वाले ग्राहकों को जोखिम भरे शेयर के बारे में चेतावनी देना।

इन उपाय को लागू करने के बाद हमने इन मामलों में गिरावट देखी है। अब हमें एक नए तरह का घोटाला देखने को मिला है।

फिशिंग स्कैम

जालसाज फ़िशिंग (नकली) वेबसाइट बनाते हैं जो बड़े शेयर ब्रोकर के बनाये गए ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म की तरह पेश आते हैं। इन् ट्रेड पेआउट प्रतिशत वेबसाइट का लिंक निवेशकों के पास SMS, ई-मेल या सोशल मीडिया के माध्यम से भेजा जाता है।

निवेशक इस लिंक से नकली वेबसाइट ट्रेड पेआउट प्रतिशत पर पहुंच जाते हैं जो उनके शेयर ब्रोकर के वेबसाइट के जैसा दिखता है। यहाँ वह अपने लॉगिन की जानकारी (नाम, पासवर्ड, पिन, और अति अदि) दर्ज कर देते हैं। यह जानकारी धोखेबाजों द्वारा कब्जा कर ली जाती है, जिसे वे निवेशक के ट्रेडिंग अकाउंट में लॉगिन करने के लिए उपयोग करते हैं। और फिर वह निवेशक के अकाउंट में स्कैम वाले बेकार कंपनी के शेयर खरीद लेते हैं या इल्लिक्विड ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की लेन-देन से निवेशक के अकाउंट से पैसे चोरी कर लेते हैं।

अगर आपके अकॉउंट में पैसे नहीं हैं तो यह धोकेबाज़ आपकी मौजूदा होल्डिंग्स के शेयर बेच कर उन् पैसों से फ्रॉड ट्रेड करते हैं। ट्रेड पेआउट प्रतिशत इन् ट्रेड्स को देखिये जो हमारे एक ग्राहक के खाते में हाल ही में किये गए थे (हम अपने ग्राहक की सहमति के साथ आपको यह पेश कर रहे हैं)। इस निवेशक की लॉगिन जानकारी धोके से गलत वेबसाइट में लगभग 9 बजे ले ली गयी थी और 10 बजे तक जालसाज़ ट्रेडिंग अकाउंट में लॉगिन कर चूका था। उसने 70,000 रुपये के शेयर बेच दिए और कुछ मिनट में 60,000 रूपये का नुक्सान भी कर दिया।

Cryptocurrency: गेमिंग क्वाॅइन SQUID से रातोंरात अमीर बन ट्रेड पेआउट प्रतिशत गए निवेशक, 24 घंटे में उछल गया 2,400%

Cryptocurrency: दक्षिण कोरियाई बाजीगर 'स्क्विड गेम' के पास अब अपना खुद का क्रिप्टोक्यरेंसी ब्रांड है. इस करेंसी में पिछले 24 घंटों में 2,400 प्रतिशत बढ़ा है. जिसके बाद यह https://images.news18.com/ibnkhabar/uploads/assests/images/placeholder.jpg?impolicy=website&width=480.22 पर कारोबार कर है.

Cryptocurrency: दक्षिण कोरियाई बाजीगर 'स्क्विड गेम' के पास अब अपना खुद का क्रिप्टोक्यरेंसी ब्रांड है. इस करेंसी में पिछले 24 घंटों में 2,400 प्रतिशत बढ़ा है. जिसके बाद यह $2.22 पर कारोबार कर है.

Cryptocurrency: दक्षिण कोरियाई बाजीगर 'स्क्विड गेम' के पास अब अपना खुद का क्रिप्टोक्यरेंसी ब्रांड है. इस करेंसी में पिछ . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : October 29, 2021, 13:58 IST

नई दिल्ली. दक्षिण कोरियाई बाजीगर ‘स्क्विड गेम’ (Squid Game) के पास अब अपना खुद का क्रिप्टोक्यरेंसी (Cryptocurrency) ब्रांड है. इस करेंसी में पिछले 24 घंटों में 2,400 प्रतिशत बढ़ा है. जिसके बाद यह $2.22 पर कारोबार कर है. बता दें कि इस नए टोकन ‘SQUID’ का बाजार पूंजीकरण 174 मिलियन डॉलर से अधिक हो गया है.

CoinMarketCap के अनुसार, 29 अक्टूबर को सुबह 9.40 बजे तक, यह 2.80 डाॅलर पर कारोबार कर ट्रेड पेआउट प्रतिशत रहा था . इसमें 1,014.50 प्रतिशत की उछाल थी. 24 घंटे में वाॅल्यूम ट्रेड 123 प्रतिशत बढ़कर $ 5,513,681 हो गई.

20 अक्टूबर को हुई थी प्री-सेल
स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म का अब तक का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला शो बनने के बाद कोरियाई भाषा के नेटफ्लिक्स डेथ-गेम ड्रामा ने सुर्खियां बटोरी हैं. क्रिप्टो की 20 अक्टूबर को प्री-सेल शुरू हुई और इसकी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि यह 1 सेकंड में ही बिक गया.

CoinMarketCap ने इस टोकन के संबंध में यूजर्स के लिए एक नोट पोस्ट किया है, जिसमें कहा गया है कि उसे कई रिपोर्टें मिलीं कि यूजर्स इस टोकन को Pancakeswap पर बेचने में असमर्थ हैं. साथ ही ट्रेडिंग के समय सावधानी बरतने के लिए भी कहा है. हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि यूजर्स इस टोकन में ट्रेड करने में असमर्थ क्यों हैं? रिपोर्ट के अनुसार, इसमें एंटी-डंपिंग तकनीक है जो कुछ शर्तों को पूरा नहीं करने पर सिक्कों की बिक्री को रोकती है. बता दें कि Pancaskeswap मशहूर क्रिप्टो एक्सचेंज है.

जानिए क्यों लॉन्च किया गया यह क्वाॅइन
टोकन को स्क्वीड गेम प्रोजेक्ट के लिए “Exclusive Coin” के रूप में लॉन्च किया गया था, ये एक क्रिप्टो प्ले-टू-अर्न टूर्नामेंट है, जो नवंबर में लॉन्च हुआ. टूर्नामेंट, जिसमें खिलाड़ियों की संख्या पर कोई अधिकतम पेआउट या लिमिट नहीं है. प्लेयर्स को SQUID में एक प्री-सेट प्राइस का पेमेंट करना होगा और कुछ राउंड के लिए कस्टम NFT की जरूरत होगी, जो उनकी वेबसाइट पर सेल के लिए होगा. रिपोर्ट में कहा गया है कि टूर्नामेंट के फाइनल गेम में 15,000 टोकन या 33,450 डॉलर और एक NFT खर्च होने की उम्मीद है. इसमें कहा गया है कि एंट्री फीस को ट्रेड पेआउट प्रतिशत क्रमशः डेवलपर्स और पूल किए गए विजेताओं के अमाउंट के बीच 10:90 रेश्यू में बांटा गया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

EPFO का प्लान: सरकार फिर घटा सकती है प्रॉविडेंट फंड की 8.5% की ब्याज दर, ईपीएफओ जल्द कर सकता है इसकी घोषणा

मार्च की शुरुआत में नई ब्याज दर 8.5 फीसदी की घोषणा हुई थी, लेकिन अभी तक उसे वित्त मंत्रालय से मंजूरी नहीं मिल सकी है - Dainik Bhaskar

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) वित्त वर्ष 2020 के लिए घोषित 8.5% ब्याज दर को कम कर सकता है। निवेश पर रिटर्न लगातार घट रहा है, जिसके चलते ईपीएफओ द्वारा प्रोविडेंट फंड पर दिए जाने वाले ब्याज को घटाने पर विचार किया जा रहा है।

बता दें कि ईपीएफओ की ब्याज दर पहले 8.65 फीसदी थी, जिसे मार्च में घटाकर 8.50 फीसदी किया गया था। अब फिर से इसे घटाने पर विचार किया जा रहा है।

सरकार जल्द ले सकती है फैसला
सूत्रों के मुताबिक ब्याज दरों पर निर्णय लेने के लिए ईपीएफओ का फाइनेंस डिपार्टमेंट, इन्वेस्टमेंट डिपार्टमेंट और ऑडिट कमेटी जल्द ही एक बैठक करने वाले हैं। इसमें ये तय किया जाएगा कि ईपीएफओ कितना ब्याज दर देने की हालत में है।

मार्च की शुरुआत में नई ब्याज दर 8.5 फीसदी की घोषणा हुई थी, लेकिन अभी तक उसे वित्त मंत्रालय से मंजूरी नहीं मिल सकी है। श्रम मंत्रालय इसके बारे में तभी नोटिफाई करेगा, जब वित्त मंत्रालय इसे अपनी मंजूरी दे देता है।

ट्रेड यूनियन इसका विरोध करेंगे
ट्रेड यूनियन जो ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी मंडल का हिस्सा है उसने कहा कि वे इस कदम का विरोध करेंगे।

भारतीय मजदूर संघ के बृजेश उपाध्याय ने कहा, "हम ट्रेड पेआउट प्रतिशत पहले से घोषित ब्याज दर पर किसी भी पुनर्विचार के लिए सहमत नहीं हैं, क्योंकि पिछले वित्तीय वर्ष में निवेश पर रिटर्न लेने के बाद इस पर सहमति की घोषणा की गई थी।"

ईपीएफओ ने 18 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का निवेश किया है। इसमें से करीब 4500 करोड़ रुपए दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन और इन्फ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशल सर्विसेज में लगाए गए हैं। इन दोनों को ही भुगतान करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

PF पर ब्याज घटने का असर
ईपीएफओ अपने सालाना एक्रुअल्स का 85 प्रतिशत हिस्सा डेट मार्केट में और 15 प्रतिशत हिस्सा एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स के जरिए इक्विटीज में लगाता है। पिछले साल मार्च के अंत में इक्विटीज में ईपीएफओ का कुल निवेश 74,324 करोड़ रुपए का था और उसे 14.74% का रिटर्न मिला था। हालांकि, सरकार को यह भी ध्यान में रखना होगा कि पीएफ पर ब्याज दर घटने से वर्कर्स का सेंटिमेंट खराब होगा।

कर्मचारियों, कंपनियों के लिए राहत भरे कदम
सरकार ने मार्च के बाद कर्मचारियों और नियोक्ताओं को कोविड-19 संकट से उबरने के लिए भविष्य निधि से संबंधित कई राहत उपायों की घोषणा की है। सरकार ने पीएफ कंट्रीब्यूशन को 12% से घटाकर 10% करने का फैसला किया है।

कर्मचारी अब पीएफ खाते में से तीन महीने की बेसिक सैलरी और डीए या पीएफ में जमा रकम के 75 फीसदी में से जो कम हो, उतनी रकम निकाल सकते हैं। इस रकम को दोबारा इसमें जमा करने की जरूरत नहीं है।

रेटिंग: 4.91
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 577