15 मिनट की अवधि के दौरान, एक्सचेंज ऑटोमैटिक सिस्टम के माध्यम से शेयरों की डिमांड और सप्लाई का एनालाइज करते हैं ताकि उनके ओपनिंग प्राइस को अंतिम रूप दिया जा सके। इस प्रकार एक तरह से Pre-Open Session स्टॉक की कीमतों में अधिक स्थिरता लाने में मदद करता है।

Amazon seller app

आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं

मार्केट डेप्थ सर्वश्रेष्ठ 5 बिड्स और ऑफ़र को दिखता है। इसके अलावा एक्स्ट्रा डेटा पॉइंट जैसे कि ओपन, हाई, लो, क्लोज (OHLC), वॉल्यूम, सर्किट लिमिट और स्टॉक और F&O कॉन्ट्रैक्ट्स के प्राइस को भी देख सकतें हैं।

वॉचलिस्ट (watchlist) में किसी भी इंस्ट्रूमेंट पर होवर करें और market depth आइकन पर क्लिक करें। नहीं तो फिर, इंस्ट्रूमेंट को सेलेक्ट करें और कीबोर्ड (keyboard) पर D दबाएं।

Zerodha इकलौता ब्रोकर है जो सर्वश्रेष्ठ 20 बिड्स और ऑफ़र के साथ-साथ 20 मार्केट डेप्थ या लेवल 3 डेटा के बारें में भी बताता है। देखिए 20 मार्केट डेप्थ फीचर क्या है और हम इसे कैसे देख सकते हैं ?

  1. Qty: किसी आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं विशेष प्राइस पर खरीदने/बेचने के लिए जो क्वांटिटी उपलब्ध होता है, उसके बारे में बताता है। आप किसी विशेष प्राइस पर क्लिक करके सीधे मार्केट डेप्थ से ऑर्डर प्लेस कर सकते हैं।
  2. ऑर्डर: एक्सचेंज पर उस विशेष प्राइस पर जो भी पेंडिंग आर्डर है, उसके बारे में बताता है।
  3. O: दिन का ओपन प्राइस।
  4. H: दिन का उच्चतम (highest) प्राइस।
  5. L: दिन का सबसे कम (lowest) प्राइस।
  6. C: पिछले दिन का क्लोज़िंग प्राइस।
  7. LTT: लास्ट ट्रेडेड टाइम।
  8. LTQ: लास्ट ट्रेडेड क्वांटिटी।
  9. एक्सपायरी : F&O के लिए।
  10. टोटल बिड्स और ऑफ़र (asks) क्वांटिटी।
  11. OI: F&O कॉन्ट्रैक्ट्स के लिए ओपन इंटरेस्ट (OI) एक्सचेंज द्वारा लाइव स्ट्रीम किया जाता है, पर इंट्राडे लाइव OI डेटा सभी इंट्राडे ओपन पोज़िशन्स के वजह से थोड़ी देर से दिखाई दे सकता है। ये कस्टोडिअन्स द्वारा दिन के अंत में ही तय किया जाता है। देखिए Is the live open interest(OI) data being provided by exchanges
  12. F&O कॉन्ट्रैक्ट्स के लिए स्पॉट प्राइस।

Related articles

  • हम बास्केट्स का उपयोग करके निफ़्टी या बैंक निफ़्टी में रेंज के बाहर के ऑर्डर कैसे डाल सकते हैं?
  • ऑर्डर विंडो में हम एक्सचेंजेस को कैसे बदल सकते हैं?
  • OHLC डेटा लाइव चार्ट्स और मार्केट वॉच में अलग अलग क्यों है ?
  • NSE या BSE में अपडेट किए गए रिकॉर्ड के अनुसार कभी-कभी Kite चार्ट पर हिस्टोरिकल डेटा के ओपन, हाई, लो, क्लोज (OHLC) क्यों मेल नहीं खातें है?
  • मार्केट डेप्थ पर एवरेज प्राइस का क्या मतलब होता है?

Still need help?

ध्यान दें: हिंदी सपोर्ट पोर्टल आपकी सुविधा के लिए है, लेकिन टिकेट बनाते समय कृपया अंग्रेजी का प्रयोग करें।

स्टॉक मार्केट में Pre-Open Market Session क्या होता है? इस सेशन में कौन कर सकता है ट्रेड? जानिए

Pre-Open Market Session in Hindi: अगर आप भारतीय शेयर बाजार की बुनियादी बातों में महारत हासिल कर रहे हैं, तो आपने कई बार पढ़ा होगा कि बाजार सप्ताह के दिनों में साप्ताहिक या सार्वजनिक अवकाश को छोड़कर सुबह 9:15 बजे खुलते हैं और दोपहर 3:30 बजे बंद हो जाते हैं। लेकिन 9:00 AM और 9:15 AM के बीच एक प्री-ओपन मार्केट सेशन भी है, जहां आप ऑर्डर दे सकते हैं और मार्केट खुलने से पहले ही पोजीशन ले सकते हैं।

अगर आप पहली बार Pre-Open Market Session के बारे में पढ़ रहे हैं, तो इसे बेहतर ढंग आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं से समझने के लिए आपको यहां 5 चीजें जाननी चाहिए-

1) प्री-ओपन मार्केट सेशन क्या है? | What is Pre-Open Market Session in Hindi

How to Buy and Sell Stocks Online - In hindi

moneymarkethindi.blogspot.com

आजकल स्टॉक ब्रोकरेज कंपनियों के बहुत सारे एप आ गए हैं, जिनके द्वारा आप बहुत आसानी से ऑनलाइन शेयर खरीद-बेच सकते हैं।आप चाहें तो अपने ब्रोकर को फोन के द्वारा भी शेयर खरीदने या बेचने का ऑर्डर भी दे सकते हैं। इस आर्टिकल के द्वारा आप How to Buy and sell Stocks Online के बारे में विस्तार से जानेगे।

जब लोग ऑनलाइन शेयर खरीदने के बारे में सोचते है, तो ज्यादातर यह सोचते है कि क्या वो online stocks खरीद तथा बेच पायगे? उनका सोचना सही भी है, क्योंकि वो आसानी से online stocks खरीदना तथा बेचना सीख सकते है।

ऑनलाइन शेयर खरीदना तथा बेचना काफी आसान है। इसके लिए आपको किसी stock broker के यहां Demat account खुलवाना पड़ेगा। Demat account किसी भी full-service stock broker अथवा Discount stock broker के यहाँ खुलवा सकते है।

How to stock exchange operates? शेयर के खरीद तथा बिक्री के दाम कैसे तय होते है ?

किसी भी वक्त बाजार में एक ही कम्पनी के शेयर के कई खरीददार होते है। उदाहरण स्वरूप आपने इंफोसिस के बीस शेयर 900 रूपये में खरीदने का फैसला किया और उसी समय दो अनजाने लोगों ने अपने 10-10 शेयर बेचने का फैसला किया। ऐसे में कम्प्यूटर सिस्टम खुद ब खुद एक खरीददार तथा दो बेचने वालों को मैच कर देगा। ताकि कारोबार पूरा हो सके।

आर्डर मैचिंग, कीमत तथा समय की प्राथमिकता के मुताबिक होता है। लिहाजा जब बाजार में किसी stock के ज्यादा खरीददार होंगे, तो उसकी कीमत ऊपर जाएगी तथा जब बेचने वालों की संख्या ज्यादा होगी तो शेयर की कीमत कम होगी।
तब क्या होगा जब आप किसी stock को खरीदना चाहते हो और कोई बेच नहीं रहा हो अगर आपके आर्डर को मैच नहीं मिलता तो वो सिस्टम में रहेगा और जब तक नया आर्डर मैच नहीं होता या आर्डर कैंसिल नहीं होता तब तक पूरे बाजार में डिस्प्ले होता रहेगा।
आप जो शेयर खरीदोगे वो तुरंत ही आपके demat account में नहीं दिखायी देगे। क्योंकि stock exchange (NSE BSE ) T-2 बेसिस पर आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं रोलिंग सेटलमेंट करता है। यानि आपने बुधवार को लेनदेन किया तो वो दो दिन बाद पूरा होगा।

मान लो यदि आप दो सौ रूपये कीमत से किसी कम्पनी के 100 शेयर खरीदते है। तो आपको अपने ब्रोकर को बीस हजार रूपये बृहस्पतिवार तक देने होंगे, और उसके बाद ब्रोकर को तीसरे दिन यानि शुक्रवार तक stock exchange के पैसे देने होंगे, ताकि सौदा पूरा हो सके और आपके खरीदे हुए शेयर तीसरे दिन आपके demat account में दिखायी देने लगेंगे

Stocks के buy तथा sell के आर्डर कैसे पूरे होते है ?

जैसे ही कोई investor आर्डर सिस्टम में डालता है तो सबसे पहले उस आर्डर को एक यूनिक नम्बर दिया जाता है। साथ ही इस आर्डर को time stamping भी किया जाता है। यानि किस समय पर ये सिस्टम में आया। इसके बाद तुरंत ही इस execution के लिए भेज दिया जाता है।

कई बार ऐसा होता है कि price तथा time की वजह से वह आर्डर execute नहीं हो पाता, तब उसे unexecuted आर्डर बुक में भेजा जाता है। ये सारे आर्डर जो unexecuted आर्डर बुक में एकत्र होते है, उस आर्डर बुक को प्राइस तथा टाइम की प्रायोरिटी पे सिस्टम में लेकर जाते है।
प्राइस प्रायोरिटी से मतलब यह है कि अगर दो आर्डर एक ही टाइम पर सिस्टम में आते है , तब जिस आर्डर का भाव ज्यादा है, उसे पहले execute किया जाता है। अगर दो आर्डर अलग -अलग भाव पर आये है पर एक ही समय पर आये है। तब उसमे ज्यादा भाव वाले आर्डर को पहले execute किया जायेगा।

ट्रेड एक्सेक्यूसन-Trade execution

Trade execution के समय पर सब buy तथा sell के आर्डर best buy तथा best sell आर्डर की प्राथमिकता से रखे जाते आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं है। best buy तथा best sell की प्राथमिकता से मतलब है कि buying के आर्डर के लिए seller के नजरिये से तथा selling के आर्डर के लिए buyer के नजरिये से भाव तय आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं होते है। यानि की best buy आर्डर की कीमत सबसे ज्यादा होगी क्योकि सामने जो seller है। उसे अपने शेयर सबसे ज्यादा कीमत पर बेचने है।

उसी तरह best sell आर्डर सबसे कम कीमत का होगा क्योंकि सामने जो buyer है। उसे सबसे कम कीमत पर शेयर खरीदने है। इस तरह ये आर्डर मिलाए जाते है और trade execute किये जाते है। उम्मीद है, अब आप How to Buy and sell Stocks Online अच्छे से सीख गये होगें ?

आप निम्नलिखित बुक्स को पढ़कर क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग करना सीख सकते हैं। साथ ही ट्रेडिंग में होने वाले नुकसान से भी बच सकते हैं। इन किताबों की आप Shop now पर क्लिक करके बड़ी आसानी से खरीदकर पढ़ सकते हैं और एक प्रोफेशनल ट्रेडर बन सकते हैं। साथ ही आप 'द इंटेलिजेंट इन्वेस्टर बुक को पढ़कर एक सफल निवेशक बन सकते हैं।

प्रोडक्ट कैसे लिस्ट करते हैं

अपने पहले प्रोडक्ट की लिस्टिंग आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं करना

Amazon.in पर अपने प्रोडक्ट को बेचना शुरू करने के लिए आपको सबसे पहले इसे Amazon.in पर लिस्ट करना होगा. आप अपने प्रोडक्ट कैटेगरी, ब्रैंड का नाम, प्रोडक्ट के फ़ीचर और स्पेसिफ़िकेशन, प्रोडक्ट इमेज और कीमत जैसी जानकारी दे सकते हैं. ये सभी जानकारी आपके कस्टमर के लिए उपलब्ध हैं, ताकि उन्हें आपके प्रोडक्ट को खरीदने में मदद मिल सके (जैसा कि यहां दिखाया गया आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं है).

बेचना शुरू करने के लिए अपना प्रोडक्ट पेज सेट करें. आप अपने Seller Central डैशबोर्ड के 'इन्वेंट्री मैनेज करें' सेक्शन से प्रोडक्ट जानकारी में बदलाव कर सकते हैं.

Amazon.in पर किसी प्रोडक्ट को कैसे लिस्ट करें?

Amazon.in पर अपने प्रोडक्ट को दिखाने के लिए, आपको उन्हें अपने Seller Central अकाउंट से दो तरीकों में से किसी के तरीके से लिस्ट करना होगा:

Share आप मार्केट ऑर्डर कैसे दे सकते हैं Market में आपके नुकसान को कम कर सकता है Stop Loss, जानें कैसे

Stop Loss शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए एक ऐसा ही टूल है जिससे आप अपना नुकसान बचा सकते हैं। जब भी हम शेयर मार्केट में निवेश करते हैं तो उसमें रिटर्न का एक लक्ष्य होता है। एक्सपर्ट निवेशक रिस्क और रिवार्ड दोनों का लक्ष्य निर्धारित करते हैं।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अपने पैसे का निवेश करने के लिए शेयर मार्केट वर्तमान समय के सबसे बेहतरीन विकल्पों में से एक है। पिछले कुछ समय से युवाओं का शेयर मार्केट की तरफ रुझान भी काफी बढ़ा है। लेकिन इससे अच्छा रिटर्न प्राप्त करने के लिए आपको इसके बारे में सही जानकारी होना बेहद जरूरी है। शेयर मार्केट में पैसे बनाना सीखने से पहले आपको अपने पैसे बचाना सीखना चाहिए। जिससे आपका नुकसान न हो, या फिर अगर आपका नुकसान हो भी रहा है तो वो थोड़ा कम हो।

Share Market 21 December 2022, See Details Of NSE, BSE

रेटिंग: 4.28
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 706