खुद के ब्लॉकचेन पर टोकन लॉन्च करना जेब पर भारी हो सकता है, इसलिए लोकप्रिय ब्लॉकचेन जैसे एथेरियम, बिनेंस चेन, ट्रॉन, सोलाना आदि का उपयोग कंपनियां अपने खुद के क्रिप्टो लॉन्च करने के लिए करती हैं.

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश से पहले जान लीजिए ये कैसे करती है काम

JNU Times

WazirX Referral Code CryptoCurrency Exchange In India Hindi

WazirX Referral Code – 74v3rrt3 यदि आप इसे डालेंगे तो आपको अकाउंट खोलने में आसानी होगी और कोई भी दिक्कत आने पर आप हमें ईमेल कर सकते हैं [email protected]

WazirX App कैसे Download करें और अकाउंट कैसे बनाएं?

  • सबसे पहले आप इस लिंक से Play Store से WazirX App Install कर लें।
  • आप अपना WazirX CryptoCurrency Account वेबसाइट और ऐप दोनो पर खोल सकते है।
  • आप अपना Email id डालना है और उसके बाद आप को Password रखना चाहते हैं उसे दो बार डालना है।
  • उसके बाद रेफरल कोड में आपको 74v3rrt3 यह कोड डाल देना है।
  • उसके बाद जब आप आगे क्लिक करेंगे तो आपको अपना ईमेल अड्रेस वेरिफाई करना होगा अपने ईमेल पर जाएं और उसे वेरिफाई करें।
  • उसके बाद आपको Mobile SMS पर क्लिक करके अपना फोन नम्बर डालकर उसे भी वेरिफाई कर लेना है।
  • फिर आपको देश(Country) में India Select करना है और Personal चुन लेना है। उसके बाद आप अपनी केवाईसी कर लेना या फिर उसे बाद में करें पर क्लिक कर देना।
  • सबसे पहले आप केवाईसी सेटअप पर जाएं।
  • उसके बाद आपको अपना First Middle or Last Name डाल लेना है आपको अपना सही नाम डालना है।
  • उसके बाद आपको अपनी जन्मतिथि (Date Of Birth) और पता (Address) डाल लेना है।
  • इसके बाद आपको अपना राज्य (State), शहर (City) और पिन कोड डाल देना है।
  • इसके बाद आपको अपना पैन कार्ड नंबर दो बार डालना है और उसका फोटो भी खींचकर अपलोड करना है।
  • अब आपको Documents में आधार कार्ड चूज कर लेना है और उसके बाद आधार कार्ड नंबर दो बार डालकर उसका भी फोटो अपलोड कर देना है।
  • इसके बाद आपको अपने हाथ में आधार कार्ड लेकर एक फोटो खींच लेना है फोटो में आपका चेहरा और आधार कार्ड साफ नजर आना चाहिए ताकि आप आसानी से केवाईसी कर पाएं और रिजेक्ट ना हो।

क्रिप्टो में हैं रोजगार के कई मौके, जानें इस क्षेत्र में कैसे बनाएं करियर

क्रिप्टो में हैं रोजगार के कई मौके, जानें इस क्षेत्र में कैसे बनाएं करियर

विश्वभर में क्रिप्टोकरेंसी की बढ़ती लोकप्रियता के साथ ब्लॉकचैन इंडस्ट्री में भी तेजी आ रही है। इसी कारण इस क्षेत्र की तरफ तकनीक और फाइनेंस से जुड़े लोग काफी आकर्षित हो रहे हैं। जिस तरीके से इसे क्षेत्र में तेजी आई, उतनी ही तेजी से इसमें काम करने वाले लोगों की मांग भी बढ़ी। अगर आप भी इस क्षेत्र में काम करने के इच्छुक हैं तो आज हम आपको इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए जरूरी बातें बताएंगे।

विभिन्न क्रिप्टोकरेंसीज की लें जानकारी

किसी भी क्षेत्र में जाने से पहले यह बेहतर होता है कि आप उसके बारे में अच्छी जानकारी कर लें। इस क्षेत्र में काम करने के लिए आपको सबसे जरूरी बात यह जाननी चाहिए कि मार्केट में प्रमुख क्रिप्टोकरेंसीज कौन-कौन सी हैं और उनकी वैल्यू कितनी है। मौजूदा समय में बिटकॉइन (BTC), एथर (ETH), रिपल (XRP), सोलाना (SOL) और डॉगकॉइन (DOG) क्रिप्टोकरेंसीज की काफी चर्चा है, इसलिए आपको कम से कम इनकी जानकारी जरूरी होनी चाहिए।

क्रिप्टोग्राफी एक ऐसी तकनीक है जिससे कुछ साधारण शब्दों (कोई भी समझ सके) को साइफर शब्दों (किसी तरह की कोडिंग) में बदला जाता है और फिर दोबारा साइफर टेक्स्ट को साधारण शब्दों में बदला जाता है। इससे एक सुरक्षित संचार स्थापित किया जाता है। आपको अगर इस क्षेत्र में एक बेहतरीन करियर बनाना है तो आपको क्रिप्टोग्राफी की अच्छी समझ होनी चाहिए ताकि आप यह समझ सके कि मार्केट में कब किसकी वैल्यू घटने या बढ़ने वाली है।

अपनी योग्यता के अनुसार चुनें क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? करियर

चूंकि क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट अब बहुत बड़ी हो गई है, इसलिए इसमें जाने से पहले आपको यह विचार करना होगा कि आपको किस क्षेत्र में जाना है। इस क्षेत्र में सबसे अधिक नौकरियां विज्ञान, तकनीक, इंजीनियरिंग और गणित (STEM) से जुड़े जानकारों के लिए हैं। इसके अलावा अगर आप इस क्षेत्र में माहिर नहीं हैं और आपको लिखना पसंद हैं तो आप क्रिप्टोकरेंसी के इस विशाल क्षेत्र के बारे में बहुत कुछ लिख सकते हैं।

इस उभरते हुए क्षेत्र में सिर्फ ज्ञान हासिल कर लेने से ही आपको नौकरी नहीं मिल जाएगी। क्रिप्टो क्षेत्र में काम करने के लिए आपको अपनी नेटवर्किंग मजबूत करनी होगी और इसमें काम करने वाले लोगों से मिलना-जुलना होगा ताकि आपको उनकी कंपनी की भर्ती की बारे में पता चल सके। नेटवर्किंग का दूसरा फायदा यह भी है कि आपको इस क्षेत्र के हाल-फिलहाल के घटनाक्रमों के बारे में भी जानकारी मिलती रहती है।

डेली अपडेट्स

यह एडिटोरियल 14/09/2022 को लाइवमिंट में प्रकाशित “Let’s take an inclusive approach to the regulation of crypto assets” लेख पर आधारित है। इसमें भारत में क्रिप्टोकरेंसी के भविष्य और संबंधित मुद्दों के बारे में चर्चा की गई है।

भारत में और विश्व भर में खरीद, बिक्री और ट्रेडिंग जैसी वित्तीय गतिविधियों को सुविधाजनक बनाने के एक माध्यम के रूप में निवेशकों के बीच क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की मात्रा और लोकप्रियता में वृद्धि हुई है। संयुक्त राष्ट्र व्यापार और विकास अभिसमय रिपोर ्ट 2021 के अनुसार, वर्ष 2021 में 7.3% भारतीय क्रिप्टोकरेंसी का स्वामित्व रखते थे।

यह सराहनीय है कि भारत जीवन के लगभग हर पहलू में ही तेज़ी से डिजिटलीकरण की ओर आगे बढ़ रहा है लेकिन इसके साथ ही एक अंतर्निहित चिंता भी है जिस पर तत्काल ध्यान देने क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? की आवश्यकता है। चिंता यह है कि वर्तमान में भारत के पास क्रिप्टो परिसंपत्ति बाज़ार को नियंत्रित करने के लिये कोई भी नियामक ढाँचा मौजूद नहीं है।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

  • क्रिप्टोकरेंसी रुपया या अमेरिकी डॉलर की ही तरह विनिमय का एक माध्यम है, लेकिन यह प्रारूप में डिजिटल है जो मौद्रिक इकाइयों के सृजन को नियंत्रित करने और धन के विनिमय को सत्यापित करने के लिये एन्क्रिप्शन तकनीकों (Encryption techniques) का उपयोग करती है।
  • बिटकॉइन (Bitcoin) विश्व की सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोरेंसी है जो बाज़ार पूंजीकरण के अनुसार विश्व की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी भी है।
  • अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी को राष्ट्रीय सरकारों द्वारा विनियमित नहीं किया जाता है; उन्हें वैकल्पिक मुद्रा या वित्तीय विनिमय के साधन के रूप में देखा जाता है जो राज्य की मौद्रिक नीति के दायरे से बाहर होते हैं।
    • सितंबर 2021 में अल साल्वाडोर विश्व का ऐसा पहला देश बन गया जिसने बिटकॉइन को वैध मुद्रा/लीगल टेंडर के रूप में मान्यता प्रदान की।

    क्रिप्टोकरेंसी से संबद्ध संदिग्ध क्षेत्र

    • अस्थिर प्रकृति: क्रिप्टोकरेंसी एक तरह का सट्टा है। इसमें अधिक मात्रा में निवेश बाज़ार अस्थिरता (Market Volatility) उत्पन्न करता है, यानी कीमतों में उतार-चढ़ाव को अवसर देता है जिसके परिणामस्वरूप लोगों को भारी नुकसान हो सकता है।
    • विश्वसनीयता और सुरक्षा: चूँकि क्रिप्टोकरेंसी लेन-देन का एक डिजिटल मोड है, यह हैकर्स, आतंकी वित्तपोषण और ड्रग लेनदेन के लिये एक अत्यंत आम मंच बन गया है।
      • उदाहरण के लिये, अपराधियों द्वारा बिटकॉइन में फिरौती का भुगतान करने के लिये ‘वन्नाक्राई’ वायरस का उपयोग किया गया था।
      • इसके अलावा, क्रिप्टोकरेंसी को मुद्रा, वस्तु या प्रतिभूति के रूप में परिभाषित नहीं किया गया है।
      • उदाहरण के लिये, भारत में केवल RBI के पास ही नकदी सृजन का अधिकार है जिसे वह न्यूनतम रिज़र्व सिस्टम बनाए रखते हुए करता है। यह मांग और आपूर्ति का एक संतुलन बनाए रखता है।
        • लेकिन क्रिप्टोकरेंसी वित्तीय संस्थागत नियमों पर निर्भर नहीं होती बल्कि एन्क्रिप्टेड और प्रोटेक्टेड होती है जिससे पूर्वनिर्धारित एल्गोरिथम रेट पर धन की आपूर्ति में वृद्धि करना कठिन हो जाता है।

        UPSC सिविल सेवा परीक्षा, विगत वर्ष के प्रश्न:

        प्रश्न:“ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी” के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये: (वर्ष 2020)

        1. यह एक सार्वजनिक बहीखाता है जिसका निरीक्षण हर कोई कर सकता है, लेकिन जिसे कोई एकल उपयोगकर्त्ता नियंत्रित नहीं करता है।
        2. ब्लॉकचेन की संरचनाऔर डिज़ाइन ऐसा है कि इसमें मौजूद सारा डेटा क्रिप्टोकरेंसी के बारे में ही होता क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? है ।
        3. ब्लॉकचेन की बुनियादी सुविधाओं पर निर्भर एप्लीकेशन बिना किसी की अनुमति के विकसित किये जा सकते हैं।

        उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

        (a) केवल 1
        (b) केवल 1 और 2
        (c) केवल 2
        (d) केवल 1 और 3

        उत्तर: (d)

        प्रश्न. हाल ही में कभी-कभी समाचारों में आने वाले शब्द 'वानाक्राई, पेट्या और इंटर्नलब्लू' निम्नलिखित में से किससे संबंधित हैं (2018)

        बिटकॉइन कैसे ख़रीदे | Top Bitcoin App, Invest Kaise Kare,

        बिटकॉइन क्या है इसके बारे पूरी जानकारी इस पोस्ट में जानें.

        बिटकॉइन कैसे ख़रीदे, bitcoin me invest kaise kare

        Table of contents

        बिटकॉइन कैसे ख़रीदे

        बिटकॉइन में निवेश कैसे करें? सबसे पहले, आपको बिटकॉइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर जाना होगा और एक खाता बनाना होगा जहां आपको बिटकॉइन का व्यापार करने के लिए एक वॉलेट दिया जाता है।

        वॉलेट बनने के बाद आपको उसमें फंड लगाना होता है और उसी फंड के जरिए क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? आप अलग-अलग सिक्कों या क्रिप्टोकरेंसी में पैसा लगा सकते हैं।

        ऑनलाइन कई क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म उपलब्ध हैं जो आपको मुफ्त में बिटकॉइन वॉलेट बनाने की अनुमति देते हैं। भारतीय बिटकॉइन ट्रेडिंग कैसे करते हैं, पॉपुलर बिटकॉइन ट्रेडिंग एप्लिकेशन की एक लिस्ट नीचे शेयर की गई है।

        Related posts:

        Trading Kaise Kare

        बिटकॉइन में ट्रेडिंग करना आज बहुत आसान हो गया है और कोई भी इसे कर सकता है बिटकॉइन ट्रेडिंग मोबाइल ऐप के माध्यम से की जा सकती है।

        क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग ब्लॉकचेन तकनीक पर काम करती है और निवेश को सुरक्षित रखने के लिए एन्क्रिप्शन कोड का उपयोग करती है। आप अधिक सुरक्षा के बदले में या तो अपना क्रिप्टो सिक्का सीधे खरीदार या व्यापारी को बेच सकते हैं।

        यहां क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? मैं आपको बिटकॉइन में निवेश कैसे करें और कहां करें और बिटकॉइन खरीदने के लिए सबसे पॉपुलर मोबाइल एप्प कौन है, जानकारी शेयर किया है.

        Top 8 Bitcoin Trading App

        यह 8 बिटकॉइन ऐप जहां आप बिटकॉइन खरीद सकते हैं। ये मोबाइल ऐप नौसिखियों के लिए बहुत अच्छे हैं। इन मोबाइल ऐप में बिटकॉइन खरीदना और बेचना बहुत आसान है। बिटकॉइन का रेट क्या है? और दर बढ़ रही है या घट रही है, आप तुरंत जान सकते हैं।

        बिटकॉइन कैसे ख़रीदे? इससे रिलेटेड सवालों का महत्वपूर्ण जानकारी…

        Q. Bitcoin Me Account Kaise Banaye

        बिटकॉइन का व्यापार करने के लिए आपको पहले एक वॉलेट की आवश्यकता होती है। अगर आप वॉलेट बनाना चाहते हैं और ट्रेड करना चाहते हैं, तो ऊपर दिए गए बिटकॉइन ट्रेडिंग मोबाइल ऐप में से कोई भी इंस्टॉल करें और कुछ दस्तावेजों और मोबाइल नंबर के साथ वॉलेट बनाएं।

        बिटकॉइन क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? वॉलेट बनाने में आपको कम से कम 5 मिनट का समय लग सकता है।

        Q. बिटकॉइन का भविष्य 2025

        बिटकॉइन का भविष्य क्या है यानि 2025 तक इसकी कीमत क्या होने वाली है? कुछ रिपोर्टों के अनुसार, बिटकॉइन की दर शुरुआत से कभी नहीं गिरी है। हमेशा बढ़ते क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? देखा है। शुरुआत में इसकी कीमत एक डॉलर से भी कम थी, लेकिन आज यह लाखों तक पहुंच गई है।

        बिज़नेस आईडिया के इम्प्लीमेंटेशन को सपोर्ट देने के लिए पैसे जुटाना

        आपको बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी के फ्लक्चुएशन के कई कारण हो सकते हैं. उसमें से एक कारण बिज़नेस आईडिया के इम्प्लीमेंटेशन को सपोर्ट देने के लिए पैसे जुटाना भी है.

        उदाहरण के लिए बिटकॉइन सबसे पुरानी क्रिप्टोक्यूरेंसी को 2009 में पेमेंट क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? एनाब्लर के रूप में लॉन्च किया गया था. इसी तरह कंपनियां ऑपरेशनल और ट्रांसक्शनल पर्पस के लिए क्रिप्टो या टोकन इंट्रोडूस करती हैं.

        उदाहरण के लिए वज़ीरएक्स द्वारा बिनेंस कॉइन ( Binance Coin) और डब्लूआरएक्स (Wrx) जैसी क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग फीस का भुगतान करने और रिवॉर्ड देने के लिए किया जाता है.

        क्रिप्टोकरेंसी या क्रिप्टो टोकन के लिए अंडरलाइंग टेक्नोलॉजी एक ब्लॉकचेन है. यह एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जो प्रकृति में डिसेंट्रलाइज है.

        यह क्रिप्टोक्यूरेंसी को किसी भी अथॉरिटी से इंडिपेंडेंट बनाता है ताकि कोई भी क्रिप्टोक्यूरेंसी डेवलपर्स और मालिकों के लिए नियमों को डिक्टेट न कर सके.

        जानिए कंपनी अपना क्रिप्टो कैसे बनाती है?

        क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) मोटे तौर पर दो तरह की होती है. वर्चुअल टोकन का एक सेट प्रोजेक्ट द्वारा सपोर्टेड होता है जबकि कई बिना किसी प्रोजेक्ट के लॉन्च किए जाते हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि किसी भी क्रिप्टोकरेंसी के उद्देश्य और इन्हेरेंट वैल्यू को समझना महत्वपूर्ण है.

        जियोटस क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज के सह-संस्थापक और सीईओ विक्रम सुब्बुराज के मुताबिक एक क्रिप्टोकुरेंसी (Cryptocurrency) लॉन्च करना अन्य मेट्रिक्स के साथ कैपिटल जुटाने के समान है.

        यह उस विचार की पहचान के साथ शुरू होता क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? है जो क्रिप्टोकुरेंसी का समर्थन करता है. क्रिप्टोक्यूरेंसी का इन्हेरेंट वैल्यू आमतौर से यह है कि एक निवेशक इससे जुड़े उपयोग के मामलों के मूल्य को कैसे मानता है. कई टोकन बिना किसी सेट प्रोजेक्ट के लॉन्च किए जाते हैं.

        (उदाहरण के लिए शीबा इनु) और ज्यादातर टाइम टेस्टिंग पर खरे नहीं उतरते. अगला यह सुनिश्चित करना है कि लोकल जूरिस्डिक्शन ऐसे लॉन्च की अनुमति देता है कि कंपनी कैपिटल जुटाने के संबंध में कुछ रेगुलेटर नियमों का उल्लंघन कर सकती है.

        तुरंत बाजार क्रिएट हो जाता है

        एक बार जब आप क्रिप्टो बनाते हैं तो अगला आवश्यक कदम ड्राइव के wider एडॉप्शन के लिए एक प्रमुख एक्सचेंज के साथ साझेदारी करना है.

        जियोटस क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज के सह-संस्थापक और सीईओ विक्रम सुब्बुराज के मुताबिक यह अक्सर बिज़नेस प्लान के वेलिडेशन, स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स में कन्वर्शन और ऑडिट के साथ आता है.

        कंपनियां एक्सचेंज के साथ साझेदारी करके और अपने यूजरबेस को टोकन गिफ्ट/बेचकर इनिशियल एक्सचेंज ऑफरिंग (IEO) कर सकती हैं. जिससे तुरंत बाजार क्रिएट हो जाता है.

        दूसरा ऑप्शन एक DEX (डिसेंट्रलाइज एक्सचेंज) के माध्यम से लिस्टेड होना है, जहां इसे मुख्य रूप से मार्केटिंग, पार्टनरशिप्स और अन्य प्रमुख घोषणाओं के माध्यम से चलाया जाता है.

        नकली सिक्कों से रहें दूर

        बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी की लोकप्रियता पर सवार कई MLM (मल्टी लेवल मार्केटिंग) प्लेयर्स ने अपनी क्रिप्टोकरेंसी लॉन्च की हैं. उन्होंने नेटवर्क में लोगों को जोड़ने पर कंट्रीब्यूशन के अलावा हर महीने 10-15% के हाई रिटर्न का वादा किया है.

        आपको बता दें ऐसी कई योजनाएं अब तक फ़र्ज़ी निकल चुकी हैं जिनमें निवेशकों को क्रिप्टो कैसे बनाते हैं? बहुत भारी नुक्सान भी हुआ है. इसलिए आपको हाई रिटर्न का झांसा देकर नकली क्रिप्टोकरेंसी बेचने वाले एजेंटों से सावधान रहना चाहिए.

        विक्रम सुब्बुराज के मुताबिक निवेशकों को निवेश से पहले वाइट पेपर पढने की आदत डालनी होगी. वाइट पेपर उस आईडिया को डिस्‍क्राइब करता है जिसपर तोकेनोमिक्स के साथ-साथ एक टोकन बनाया जाता है.

        एक बार जब आईडिया एक स्ट्रांग विएबल फ्यूचर के साथ रेसोनत हो जाता है. तो निवेशकों को यह इवैल्‍यूएट करना होगा कि क्या टोकन के पीछे की टीम सुझाव के अनुसार रोडमैप को एक्सेक्यूट करने में सक्षम है.

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 618