प्रत्येक तकनीकी रणनीति (Technical Strategy) के पीछे विभिन्न Indicators का उपयोग किया जाता है।

Technical Analysis (Hindi)

अगर आप शेयर बाजार में निवेश करते हैं तो आपने Technical Analysis के बारे में सुना होगा।Technical Analysis ( तकनीकी विश्लेषण ) बाजार की चाल और बाजार की प्रवृत्ति को समझने के उद्देश्य से तकनीकी चार्ट या तकनीकी संकेतकों के माध्यम से बाजार व्यवहार का अध्ययन है। इस ब्लॉग आर्टिकल में हम Technical Analysis के बारे में जानेगे !!

Table of Contents

Technical Analysis क्या होता हैं|What is Technical Analysis

Technical Analysis ( तकनीकी विश्लेषण ) एक अध्ययन हैं जो चार्ट और तकनीक इंडिकेटर का उपयोग करके हिस्टोरिकल ट्रेंड के आधार पर भविष्य में होने वाले शेयर प्राइस के बढ़ने और गिरने के बारे में बताता हैं जिसके माध्यम से बाजार की चाल और व्यवहार को समझने में आसानी होती हैं शेयर्स के खरीदने का मूल्य, खरीदने का समय, कितना खरीदना और बेचना, स्टॉप लॉस और एग्जिट आदि के बारे में बताता है।टेक्निकल एनालिसिस के माध्यम से किसी भी स्टॉक में कब एंट्री और एग्जिट करना हैं ये भी प्राइस पैटर्न और इंडीकेटर्स की मदद से पता लगाया जा सकता हैं।Technical एनालिसिस की सबसे ख़ास बात ये हैं की ये किसी भी एसेट क्लास पे अप्लाई किया जा सकते हैं क्यूंकि चार्ट एनालिसिस हर एक एसेट क्लास पे काम करता हैं क्यंकि ये उसके प्राइस बेहवियर को पास्ट डाटा के आधार पे जानने का तरीका हैं।

Technical Analysis कैसे करें|How to do Technical Analysis

टेक्निकल तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? एनालिसिस शेयर का हिस्टोरिकल ट्रेडिंग डाटा को चार्ट के माध्यम से समझता हैं और यह डाटा आगे आने तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? वाले समय के बारे में क्या संकेत देता है।यहां Technical Analysis Study में उपयोग किए जाने वाले बुनियादी उपकरण हैं जैसे कैंडलस्टिक चार्ट, वॉल्यूम, ट्रेंडलाइन, मूविंग एवरेज आदि। मुख्य पैरामीटर स्टॉक की प्रवृत्ति और मूल्य व्यवहार की पहचान करना है।

Technical Analysis study (तकनीकी अध्ययन) में Price और Volume दो महत्वपूर्ण कारक हैं क्योंकि तकनीकी अध्ययन में Price सर्वोच्च है और वॉल्यूम मूल्य पैटर्न का समर्थन करती है या मूल्य व्यवहार को प्रभावित करती है।टेक्निकल एनालिसिस में आप चार्ट को analyse कर सकते हैं क्यूंकि एक चार्ट ट्रेंड के बारे में काफी कुछ बताता हैं उसमे प्राइस और वॉल्यूम के पैटर्न्स को ध्यान में रखना चाहिए क्यूंकि प्राइस ही तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? सबसे ऊपर क्यूंकि जितने इंडिकेटर और टेक्निकल उपयोग केवल ट्रेंड और प्राइस का मूवमेंट देखने के लिए होते हैं

तकनीकी विश्लेषण क्या है वर्णन करें?

इसे सुनेंरोकेंतकनीकी विश्लेषण अथवा टेक्निकल एनालिसिस (अंग्रेज़ी: Technical analysis,) विभिन्न प्रतिभूतियों (सिक्योरिटीज) (जैसे शेयर आदि) का विश्लेषण करने की विधा है। इसकी सहायता से भविष्य में इनके मूल्यों के बढ़ने-घटने के बारे में अनुमान लगाया जाता है।

आधारभूत विश्लेषण से आप क्या समझते हैं?

इसे सुनेंरोकेंआधारभूत विश्लेषण आर्थिक और वित्तीय घटकों के माध्यम से किसी परिसंपत्ति के आंतरिक मूल्य को खोजने का एक तरीका है। कई कारक हैं जिन्हें मौलिक विश्लेषक ध्यान देते हैं, जिसमें अर्थव्यवस्था और उद्योग की स्थिति सहित समष्टि अर्थव्यवस्था और साथ ही साथ कंपनी प्रबंधन संरचनाओं और दर्शन जैसे सूक्ष्म कारकों में भी ध्यान दिया जाता है।

मौलिक विश्लेषण और तकनीकी विश्लेषण क्या है?

इसे सुनेंरोकेंमौलिक विश्लेषण आमतौर पर एक दीर्घकालिक स्थिति व्यापारी के लिए सिफारिश की जाती है, जबकि तकनीकी विश्लेषण स्विंग व्यापारी या अल्पकालिक व्यापारी के लिए उपयुक्त है। जबकि तकनीकी विश्लेषण केवल पिछले आंकड़ों का विश्लेषण करता है, मौलिक विश्लेषण अतीत और भविष्य के विकास की संभावनाओं दोनों पर केंद्रित है ।

तकनीकी विश्लेषण डाउ सिद्धांत की व्याख्या क्या है?

इसे सुनेंरोकेंस्टॉक-मूल्य गतिविधि पर डाउ सिद्धांत एक तकनीकी विश्लेषण है जिसमें सेक्टर रोटेशन के कुछ पहलु शामिल हैं। इस सिद्धांत को चार्ल्स एच. डाउ (1851-1902) द्वारा लिखित वॉल स्ट्रीट जर्नल के 255 संपादकीय से निकाला गया था, वे वॉल स्ट्रीट जर्नल के पत्रकार, संस्थापक और प्रथम सम्पादक थे और डाउ जोन्स एंड कंपनी के सह-संस्थापक थे।

वित्तीय विश्लेषण से क्या समझते हैं?

इसे सुनेंरोकेंवित्तीय विश्लेषण एक फ़र्म की वित्तीय सुदृढ़ता एवं कमजोरियों को पहचानने का एक प्रक्रम है, जिसमें तुलन-पत्र तथा लाभ व हानि विवरण की मदों के बीच उचित संबंधों को देखा जाता है। एक वित्त प्रबंधक को निश्चित रूप से विश्लेषण के विभिन्न साधनों से सुसज्जित होना चाहिए ताकि फ़र्म के लिए विवेकपूर्ण निर्णय लिए जा सकें।

इसे सुनेंरोकेंतकनीकी विश्लेषण का मतलब होता है शेयर के भाव के चार्ट्स की समीक्षा करके भविष्य के उतार-चढ़ाव की जानकारी पता करना। तकनीकी विश्लेषण का मतलब होता है शेयर के भाव के चार्ट्स की समीक्षा करके भविष्य के उतार-चढ़ाव की जानकारी पता करना। यह समझना जरूरी है कि तकनीकी विश्लेषण पूरी तरह से शेयर की तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? कीमतों पर आधारित होता है।

स्टॉक का तकनीकी विश्लेषण कैसे करें?

कैसे काम करता है रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम?

शेयर मार्केट में सिग्नल ट्रेडिंग ऑनलाइन ट्रेडिंग में उपयोग की जाने वाली एक बहुत ही सामान्य लेकिन महत्वपूर्ण प्रणाली है। रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम अनिवार्य रूप से शेयर बाजार से अनावश्यक डेटा को हटा देता है। इससे निवेशकों को केवल उन्हीं शेयरों के बारे में जानकारी मिलती है जो उनकी निवेश आवश्यकताओं और उद्देश्यों के लिए महत्वपूर्ण हैं। इस तकनीक में एक पैटर्न के आधार पर शेयर के खरीदने’ और ‘बेचने’ का सिग्नल दिया जाता है। अगर कोई शेयर अपना पैटर्न ब्रेक करता है तो इसका सिग्नल तुरंत आता है जिससे निवेशक सही समय पर फैसला ले सके।

तकनीकी विश्लेषण के लिए रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम में अलग-अलग इनपुट लिए जाते है। इसमें प्रमुख घटक तकनीकी विश्लेषण है के साथ मौलिक विश्लेषण और मात्रात्मक विश्लेषण का भी इस्तेमाल किया जाता है। रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम में निम्नलिखित सामान्य इनपुट को शामिल किया जाता है।

Importance of तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? Radar Signal Trading System ( महत्त्व )

सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम आपके पोर्टफोलियो की कैसे मदद कर सकता है और कैसे आपको सही जानकारी दे सकता है इसे निचे विंदुवार समझाया गया है।

  • रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम निवेशकों को तुरन्त यह जानने में मदत करता है कि किस स्टॉक ने उच्च या निम्न स्तर पर शुरुआत की हैं।
  • यह दर्शाता है कि कौन कौन से शेयर्स ने रेजिस्टेंस स्तर या सपोर्ट स्तर को तोड़ दिया है।
  • Radar Signal Trading System से उतार-चढ़ाव के दिनों में वॉल्यूम बदलना आसानी से समझा जा सकता है।
  • कई तकनीकी संकेतकों को ट्रैक करने के लिए एक व्यापक सिस्टम प्रदान करता है।

कितना सटीक है रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम?

इस समय पूरी दुनिया में अधिकतर निवेशक सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम का उपयोग कर रहे हैं। रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम निवेशकों को खरीदने या बेचने के संकेत देने के लिए तकनीकी विश्लेषण और मौलिक विश्लेषण तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? का उपयोग करने में मदद करता है। मौजूदा समय में बड़ी संख्या में सूचीबद्ध शेयर के कारण सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम के बिना ट्रेडिंग या निवेश मुश्किल है। कहा जाता है कि इस तकनीक से मानवीय त्रुटि तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? को दूर किया गया है लेकिन इनमें कई ऐसी विधियां है जो पूर्ण रूप से प्रमाणित नहीं हैं। इसलिए किसी भी सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम का इस्तेमाल करते समय सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

Q: रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम का उदेश्य क्या है?
Ans: रडार सिग्नल ट्रेडिंग सिस्टम शेयर ट्रेडिंग की उन्ही तकनीकों में से एक है जिसे निवेशकों को सही सिग्नल देने के उदेश्य से बनाया है।

कैंडलस्टिक अंतराल

प्रत्येक कैंडलस्टिक द्वारा दर्शाई गई समय-सीमा को ग्राफ के ऊपर डिफॉल्ट विकल्पों में से किसी एक को चुनकर बदला जा सकता है। तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? यदि आपको अधिक अंतराल की आवश्यकता है, तो दाईं ओर नीचे की ओर स्थित तीर पर क्लिक करें।

यहां आप एक नया अंतराल चुन सकते/सकती हैं या अपने डिफॉल्ट विकल्पों में अधिक अंतराल जोड़ने के लिए [संपादित करें] बटन दबा सकते/सकती हैं।

ड्रॉइंग उपकरण

चार्ट के बाईं ओर आपके चार्टिंग विश्लेषण में सहायता के लिए कई ड्राइंग टूल और विकल्प प्रदान किए गए हैं । टूल के प्राथमिक फंक्शन की विविधताओं को खोजने के लिए आप प्रत्येक टूल पर राइट-क्लिक भी कर सकते/सकती हैं।

लोकप्रिय बुनियादी उपकरण

लॉन्ग या शॉर्ट पोजीशन टूल आपको ट्रेडिंग पोजीशन को ट्रैक या अनुकरण करने की अनुमति देता है। आप मैन्युअल रूप से प्रवेश मूल्य, टेक प्रॉफिट और स्टॉप-लॉस स्तरों को समायोजित कर सकते/सकती हैं। फिर आप संबंधित जोखिम/इनाम अनुपात देखेंगे/देखेंगी।

2. अपनी लॉन्ग/शार्ट पोजीशन बनाने के लिए ग्राफ पर क्लिक करें। हरा छायांकित क्षेत्र आपके लक्ष्य (संभावित लाभ) का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि लाल आपके स्टॉप-लॉस क्षेत्र (संभावित हानि) को दर्शाता है। केंद्र में, आप जोखिम/इनाम अनुपात देख सकते/सकती हैं।

3. अपना जोखिम/इनाम अनुपात बदलने के लिए बॉक्स के किनारों को ड्रैग करें। टारगेट आपके प्रवेश मूल्य और टेक प्रॉफिट लेवल तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे किया जाता है? के बीच मूल्य में अंतर को दिखाता है। स्टॉप आपके प्रवेश मूल्य और स्टॉप-लॉस स्तर के बीच मूल्य में अंतर को दर्शाता है।

ट्रेंड लाइन

आप अपने तकनीकी विश्लेषण के तरीकों में फिट होने के लिए आसानी से अपने चार्ट में ट्रेंड लाइन जोड़ सकते/सकती हैं। सामान्य तौर पर ट्रेंड लाइन्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए, हमारे बायनेन्स अकादमी ट्रेंड लाइन्स गाइड को देखें ।

ट्रेंड लाइन बनाने के लिए, बस [ट्रेंड लाइन] टूल पर क्लिक करें और अपनी ट्रेंड लाइन के लिए शुरुआत और समापन बिंदु चुनें।

नीचे एक सरल ट्रेंडलाइन का एक उदाहरण है जो संभावित बाजार के प्रवेश बिंदुओं को प्रदर्शित करता है। फ्लोटिंग टूलबॉक्स का उपयोग करके मोटाई, रंग और अन्य सुविधाएं अनुकूलन योग्य हैं।

Top 5 Best Chartink Screener Formula Link

हालाँकि, मैं आपको कुछ Technical Strategy के कृत्रिम फ़िल्टर के लिंक दे रहा हूँ।

आप उन फ़िल्टर पर केवल RUN बटन पर क्लिक करके शेयर ढूंढ सकते हैं।

  • Rsi 5 min Oversold/Overbought (Intraday Screener Chartink)
    45 degree (LONG)
  • 1 Hour Price Breakout / Breakdown
  • Stocks above 200 EMA
  • EMA crossover(5,13,26) Scan

How To Start Tarde Using Chartink Scanner

और याद रखें कि आपने अपनी पसंद के शेयरों को चुना है।

अब आपको उन शेयरों का BUY PRICE, TARGETऔर STOPLOSS निर्धारित करना होगा। एक बार शेड्यूल करने के बाद आप अपना ट्रेडिंग अकाउंट ऑर्डर दे सकते हैं।

जब भी स्टॉक आपके चुने हुए मूल्य को छूएगा तो आपका ऑर्डर पूरा हो जाएगा।

इंट्राडे या डिलीवरी ट्रेडिंग करना याद रखें जिसका आपको पहले से Analysis करने और स्टॉक चुनने की आवश्यकता है।

Chartink Free vs Premium

चार्टलिंक स्कैनर में ये सभी सेवाएं आपको पूरी तरह से मुफ्त मिलेंगी।

लेकिन जो जानकारी आपको देगी वो असली बाजार से 10 सेकेंड पीछे होगी.

तो आप चाहें तो चार्टलिंक की प्रीमियम सर्विस ले सकते हैं।

Premium सेवा के लिए आपसे प्रति माह 250 रुपये का शुल्क लिया जाएगा।

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके सबसे पहले आपको अपना मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी और अन्य जानकारी के साथ रजिस्टर करना होगा।
फिर आप पेमेंट गेटवे के माध्यम से भुगतान कर सकते हैं।

Chartink Nifty स्कैनर वैकल्पिक

चार्टलिंक के समान एक और स्कैनर है जिसे Top Stock research कहा जाता है।

मुझे उम्मीद है कि आपको मेरा लेख “शेयर बाजार में Chartink Screener कैसे उपयोग करें?” पसंद आया होगा। आपका ज्ञान बहुत बढ़ गया है। अगर मैंने इस लेख में कोई गलती की है या यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो बेझिझक कमेंट बॉक्स में कमेंट करें और मैं आपके प्रश्न का उत्तर जल्द से जल्द देने का प्रयास करूंगा।

अगर आपको स्टॉक मार्केट के बारे में ज्यादा अनुभव नहीं है। और अगर आप स्टॉक मार्केट की कार्यप्रणाली सीखना चाहते हैं। तब आप हमारे –शेयर मार्केट Technical Course में दाखिला ले सकते हैं।

आप सिर्फ 799/- रुपये में Stock Market के सभी कामकाज सीख सकते हैं और आप शेयर मार्केट से हर महीने अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

रेटिंग: 4.21
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 113