नवभारत टाइम्स 19 घंटे पहले

चीन को अपनी सोच बदलने की जरूरत; भारत का जवाब हमेशा ऐसा नहीं रहेगा : गोखले

नवभारत टाइम्स लोगो

नवभारत टाइम्स 19 घंटे पहले

नयी दिल्ली, 15 दिसंबर (भाषा) पूर्व विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर 2020 के घटनाक्रम से चीन को लेकर भारत को रणनीतिक स्पष्टता मिली है और उसके नजरिए में बदलाव आया है।

उन्होंने साथ ही कहा कि चीन को भी अपनी इस सोच पर फिर से विचार करने की जरूरत है क्योंकि उसकी सैन्य आक्रामकता के खिलाफ भारत का जवाब हमेशा ऐसा नहीं रहेगा।

चीन में भारत के पूर्व राजदूत रहे गोखले ने कहा कि एलएसी पर अन्य पक्ष के पास हथियारों की मौजूदगी को लेकर भारत भी सैन्य क्षमता बढ़ाने के लिए अधिक इच्छुक एवं प्रतिबद्ध है।

गोखले ने ‘चीन की भारत नीति: भारत-चीन संबंधों के लिए सबक’ शीर्षक से प्रकाशित एक लेख में कहा, ‘‘ भारत की मौजूदा क्षमता के आधार पर उसकी भविष्य की कार्रवाइयों का आकलन करना सही नहीं होगा।’’

थिंकटैंक ‘कार्नेजी भारत’ के लिए यह लेख लिखा गया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को संसद को बताया था कि चीन के सैनिकों ने नौ दिसंबर को तवांग सेक्टर में यांग्त्से क्षेत्र में यथास्थिति बदलने का एकतरफा प्रयास किया जिसका भारत के जवानों ने दृढ़ता से जवाब दिया और उन्हें लौटने के लिए मजबूर कर दिया।

लेख में गोखले ने जून 2020 में गलवान घाटी में दोनों देशों की सेनाओं के बीच हुई झड़प के बाद चीन को लेकर भारत के नजरिए में आए बदलाव का भी उल्लेख किया।

गोखले ने कहा, ‘‘ संयम रणनीति की अवधारणा बदली है। इसकी वजह राजनीतिक गलियारे में आक्रामक रवैया अपनाने को लेकर आया बदलाव भी है, जिसके चलते ही रेजांग ला में ‘स्नो लेपर्ड काउंटर-ऑपरेशन’ को अंजाम दिया गया।’’

गोखले ने कहा कि 2020 के एलएसी घटनाक्रम के कारण चीन को लेकर भारत के नजरिए में बदलाव आया।

उन्होंने कहा, ‘‘ भारत के निर्णय लेने और रणनीतिक हलकों में जो अस्पष्टता थी कि चीन एक भागीदार है या प्रतिद्वंद्वी, उसकी जगह रणनीतिक स्पष्टता ने ले ली है।’’

गोखले ने कहा, ‘‘ चीन के हर एक कदम को अब विरोधात्मक माना जाता है और कुछ ही लोग होंगे जो उसे संदेह का लाभ देना चाहेंगे। गलवान की घटना से चीन को लेकर देश की जनता की राय बदली है।’’

पूर्व शीर्ष राजनयिक ने कहा कि चीनी विद्वानों को भी इस धारणा पर फिर विचार करने की जरूरत है कि भविष्य में उनकी सैन्य आक्रामकता के प्रति भारत का जवाब हमेशा ऐसा नहीं रहेगा।

Business / बड़े काम की चीज है White Ration Card, लोगों को मिलते हैं गजब फायदे

बड़े काम की चीज है White Ration Card, लोगों को मिलते हैं गजब फायदे

Ration Card Apply: राशन कार्ड के जरिए लोगों के कई काम आसान हो जाते हैं. वहीं सरकार की ओर से अलग-अलग राशन कार्ड जारी किए जाते हैं. राज्य सरकार अपने निवासियों के लिए राशन कार्ड जारी करती है. इन्हीं राशन कार्ड में एक White Ration Card भी शामिल है. लोगों को व्हाइट राशन कार्ड के जरिए भी कई फायदे पहुंच सकते हैं.

व्हाइट राशन कार्ड (White Ration Card) भारत के उन नागरिकों को जारी किया जाता है जो गरीबी रेखा से ऊपर हैं. भारत में 11,000 रुपये से कम आय वाले लोगों को सफेद राशन कार्ड या डी कार्ड जारी किए जाते हैं. यह कार्ड उन परिवारों को भी जारी किया जाता है जिनकी वार्षिक आय 1 लाख रुपये और उससे अधिक है. चौपहिया वाहन वाले परिवार के सदस्य या कुल परिवार के रूप में चार हेक्टेयर सिंचित भूमि रखने वाले व्हाइट राशन कार्ड के लिए पात्र हैं.

राज्य सरकार एक विशिष्ट मात्रा के लिए गेहूं, चावल, मेडिकल वीजा में सहायता चीनी और मिट्टी के तेल जैसी सामग्री पर व्हाइट राशन कार्ड धारकों के लिए रियायती खुदरा दरों को बनाए रखती है. राज्य सरकार एपीएल परिवारों को 100% उचित दरों पर प्रति माह 10 किलो से 20 किलो खाद्यान्न के साथ सफेद राशन कार्ड भी प्रदान करती है.

White Ration Card Benefits

- ये कार्ड लीगल प्रूफ दस्तावेजों के रूप में काम करते हैं.

- गैस सब्सिडी प्रदान करता है.

- वीजा या पासपोर्ट के लिए आवेदन करते समय वैध प्रमाण के रूप में कार्य करता है.

- चावल, चीनी और अन्य लागू सामग्री के वितरण में उपयोग किया जाता है.

- पात्र मेडिकल वीजा में सहायता उम्मीदवारों के लिए स्टूडेंट फी रिंबर्समेंट.

- रियायती दरों पर भोजन और खाद्यान्न प्रदान करता है.

- आरोग्यश्री अस्पतालों में मुफ्त चिकित्सा सहायता प्रदान करता है.

संपत्ति के लेनदेन और ड्राइविंग लाइसेंस के लिए व्हाइट राशन कार्ड का उपयोग निवास प्रमाण के रूप में किया जाता है.

Apply Ration Card : कभी सुना है वाइट राशन कार्ड के बारे में, इस Ration Card के फायदे गिनते गिनते थक जायेंगे आप

देश में कई तरह के Ration Card मौजूद है और हरेक के फायदे हैं तो क्या अपने कभी मेडिकल वीजा में सहायता वाइट राशन कार्ड के बारे में सुना है , इस Ration Card को कौन कर सकता है अप्लाई और क्या है इसके फायदे, आइये डिटेल में जानते हैं।

ration card

HR Breaking News, New Delhi : राशन कार्ड के जरिए लोगों के कई काम आसान हो जाते हैं. वहीं सरकार की ओर से अलग-अलग राशन कार्ड जारी किए जाते हैं. राज्य सरकार अपने निवासियों के लिए राशन कार्ड जारी करती है. इन्हीं राशन कार्ड में एक White Ration Card भी शामिल है. लोगों को व्हाइट राशन कार्ड के जरिए भी कई फायदे पहुंच सकते हैं.

White Ration Card
व्हाइट राशन कार्ड (White Ration Card) भारत के उन नागरिकों को जारी किया जाता है जो गरीबी रेखा से ऊपर हैं. भारत में 11,000 रुपये से कम आय वाले लोगों को सफेद राशन कार्ड या डी कार्ड जारी किए जाते हैं. यह कार्ड उन परिवारों को भी जारी किया जाता है जिनकी वार्षिक आय 1 लाख रुपये और उससे अधिक है. चौपहिया वाहन वाले परिवार के सदस्य या कुल परिवार के रूप में चार हेक्टेयर सिंचित भूमि रखने वाले व्हाइट राशन कार्ड के लिए पात्र हैं.

मिलता है अनाज
राज्य सरकार एक विशिष्ट मात्रा के लिए गेहूं, चावल, चीनी और मिट्टी के तेल जैसी सामग्री पर व्हाइट मेडिकल वीजा में सहायता राशन कार्ड धारकों के लिए रियायती खुदरा दरों को बनाए रखती है. राज्य सरकार एपीएल परिवारों को 100% उचित दरों पर प्रति माह 10 किलो से 20 किलो खाद्यान्न के साथ सफेद राशन कार्ड भी प्रदान करती है.

White Ration Card Benefits
- ये कार्ड लीगल प्रूफ दस्तावेजों के रूप में काम करते हैं.
- गैस सब्सिडी प्रदान करता है.
- वीजा या पासपोर्ट के लिए आवेदन करते समय वैध प्रमाण के रूप में कार्य करता है.
- चावल, चीनी और अन्य लागू सामग्री के वितरण में उपयोग किया जाता है.
- पात्र उम्मीदवारों के लिए स्टूडेंट फी रिंबर्समेंट.
- रियायती दरों पर भोजन और खाद्यान्न प्रदान करता है.
- आरोग्यश्री अस्पतालों में मुफ्त चिकित्सा सहायता प्रदान करता है.
संपत्ति के लेनदेन और ड्राइविंग लाइसेंस के लिए व्हाइट राशन कार्ड का उपयोग निवास प्रमाण के रूप में किया जाता है.

Ration Card : बड़े काम का है ये White Ration Card, मिलते हैं गजब के फायदे

अगर आप राशन कार्ड धारक हैं तो आपके लिए काम की खबर है। बता दें कि राशन कार्ड के जरिए लोगों के कई काम आसान हो जाते हैं। सरकार की ओर से अलग-अलग राशन कार्ड जारी किए जाते हैं.

राज्य सरकार अपने निवासियों के लिए राशन कार्ड जारी करती है. इन्हीं राशन कार्ड में एक White Ration Card भी शामिल है. लोगों को व्हाइट राशन कार्ड के जरिए भी कई फायदे पहुंच सकते हैं.

White Ration Card

व्हाइट राशन कार्ड (White Ration Card) भारत के उन नागरिकों को जारी किया जाता है जो गरीबी रेखा से ऊपर हैं. भारत में 11,000 रुपये से कम मेडिकल वीजा में सहायता आय वाले लोगों को सफेद राशन कार्ड या डी कार्ड जारी किए जाते हैं.

यह कार्ड उन परिवारों को भी जारी किया जाता है जिनकी वार्षिक आय 1 लाख रुपये और उससे अधिक है. चौपहिया वाहन वाले परिवार के सदस्य या कुल परिवार के रूप में चार हेक्टेयर सिंचित भूमि रखने वाले व्हाइट राशन कार्ड के लिए पात्र हैं.

राज्य सरकार एक विशिष्ट मात्रा के लिए गेहूं, चावल, चीनी और मिट्टी के तेल जैसी सामग्री पर व्हाइट राशन कार्ड धारकों के लिए रियायती खुदरा दरों को बनाए रखती है.

राज्य सरकार एपीएल परिवारों को 100% उचित दरों पर प्रति माह 10 किलो से 20 किलो खाद्यान्न के साथ सफेद राशन कार्ड भी प्रदान करती है.

White Ration Card Benefits

- ये कार्ड लीगल प्रूफ दस्तावेजों के रूप में काम करते हैं.

- गैस सब्सिडी प्रदान करता है.

- वीजा या पासपोर्ट के लिए आवेदन मेडिकल वीजा में सहायता करते समय वैध प्रमाण के रूप में कार्य करता है.

- चावल, चीनी और अन्य लागू सामग्री के वितरण में उपयोग किया जाता है.

- पात्र उम्मीदवारों के लिए मेडिकल वीजा में सहायता स्टूडेंट फी रिंबर्समेंट.

- रियायती दरों पर भोजन और खाद्यान्न प्रदान करता है.

- आरोग्यश्री अस्पतालों में मुफ्त चिकित्सा सहायता प्रदान करता है.

संपत्ति के लेनदेन और ड्राइविंग लाइसेंस के लिए व्हाइट राशन कार्ड का उपयोग निवास प्रमाण के रूप में किया जाता है.

रेटिंग: 4.54
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 787